कन्या – नव-जीवन का आधार

कन्या – नव-जीवन का आधार : by Shashi
A poem by mom..woven around the social evils such as female foeticide and other social evils that a girl-child is subjected to.

(English script also given below)

ठहर सा गया है जीवन का सहज स्वाभाविक विस्तार,
है क्यों दमित और उपेक्षित आज जननी, नव-जीवन का आधार.
जीने दो मुझे जीने दो,
जीवन की बगिया को पनपने और महकने दो.
नव कोपलों को ज़रा फूटने दो,
इन्हें खिलने और निखरने तो दो.
न रौंदो इन्हें खिलने से पहले,
नव-चेतना की नींव हैं ये, इन्हें ज़रा संभलने तो दो.
सुरम्य सुरभि सर्वत्र फैलने दो,
बनजर होती वसुंधरा को ज़रा सजने और संवरने तो दो.
जड़ों को काटकर कलियों को ना बचा पाओगे,
अज्ञानवश ये कैसा कदम उठा रहे हो.
कुदरत के बहाव को रोक कर,
कहाँ तक और कब तक चल पाओगे?
प्रकृति के पालने में पलती बढ़ती,
किशोरावस्था की देहलीज़ पर दस्तक देती वह.
कुरीतियों, कुपोषण, अज्ञान और आशंकाओं से भ्रमित,
सहमती ठिठकती वह.
कतरा कतरा जीवन को तलाशती,
अनंत ममता बरसाती वह,
धुंधली आँखों से खोजती टटोलती, अपने वजूद को वह.
खोल दो इन बंद दरवाज़ों को,
ताज़ी हवा को भरने तो दो.
आने दो सूर्य किरणों को अन्दर,
सदियों की सीलन से ज़रा उबरने तो दो.
सुनने दो पायल की रुनझुन,
ममता का आँचल ज़रा लहराने तो दो.
विकृत वीरान होती धरा को,
फिर सजने और संवरने तो दो.
चेतना के सिकुड़ते पंखों को,
खुले आसमाँ में ज़रा फैलने तो दो.
भरने दो दामन में मेरे ये नीला आकाश,
रहने दो सहज अरुण अरुणिमा का निर्मल प्रकाश.
है घर का केंद्र नारी, परिधि पर है परिवार,
गर केंद्र है दीन-हीन, थका हारा और उदास,
हैं अपरिचित से ये शब्द, प्रगति और प्रकाश.
है नारी जहाँ आनंदित और प्रफुल्लित,
हैं वहां नित-नयी उमंगें, और फैले मधुर सुवास.
जीवन होगा एक उत्सव उल्लास,
और होगा संपूर्ण चेतना का संतुलित विकास.
जाग चुकी हूँ मैं, करती हूँ घोषणा,
केवल रिश्तों से नहीं पहचान मेरी,
है मेरा भी स्वतन्त्र व्यक्तित्व.
जड़ संपत्ति नहीं मैं,
है मेरा भी स्वतन्त्र अस्तित्व.

———————–


Kanya – Navjeevan ka aadhaar : by Shashi

Theher sa gaya hai jeevan ka sehej svaabhavik vistaar,
Hai kyon damit aur upekshit aaj janani, navjeevan ka aadhaar.
Jeene do mujhe jeene do,
Jeevan ki bagiyaa ko panapne aur mehekne do.
Nav kopalon ko zara footne do,
Inhein khilne aur nikharne to do.
Na raundho inhein khilne se pehle,
Nav chetna ki neenv hain ye, inhein zara sambhalne to do.
Suramya surabhi sarvatra faelne do,
Banjar hoti vasundhara ko zara sajne aur sanvarne to do.
Jadon ko kaatkar kaliyon ko na bacha paaoge,
Agyaanvash ye kaisa kadam utha rahe ho.
Kudrat ke bahaav ko rok kar,
Kahaan tak aur kab tak chal paaoge?
Prakriti ke paalne mein palti badhti,
Kishoraavastha ki dehleez par dastak deti vah.
Kureetiyon, kuposhan, agyaan aur aashankaaon se bhramit,
Sahemti thithakti vah.
Katra katra jeevan ko talaashti,
Anant mamta barsaati vah,
Dhundhli aankhon se khojti tatolti, apne vajood ko vah.
Khol do inn band darwaazon ko,
Taazi hawa ko bharne to do.
Aane do surya kiranon ko andar,
Sadiyon ki seelan se zara ubarne to do.
Sunne do payal ki runjhun,
Mamta ka aanchal zara lehraane to do.
Vikrit veeraan hoti dhara ko,
Fir sajne aur sanvarne to do.
Chetna ke sikudte pankhon ko,
Khule aasmaan mein zra faelne to do.
Bharne do daaman mein mere ye neela aakash,
Rehne do sehej arun arunima ka nirmal prakash.
Hai ghar ka kendra naari, Paridhi par hai parivaar,
Gar Kendra hai deen heen, thaka haara aur udaas,
Hain aparichit se ye shabd, Pragati aur prakash.
Hai naari jahan aanandit aur prafullit,
Hain vahaan nit nayee umangein, aur faele madhur suvaas.
Jeevan hoga ek utsav ullaas,
Aur hoga sampoorna chetna ka santulit vikas.
Jaag chuki hoon main, Karti hoon ghoshna,
Keval rishton se nahi pehchaan meri,
Hai mera bhi svatantra vyaktitva.
Jad sampatti nahi main,
Hai mera bhi svatantra astitva.

Published by

adityapathak

Please visit me at my homepage https://adityapathak.net/ for more info. Thanks and best wishes, Aditya

9 thoughts on “कन्या – नव-जीवन का आधार”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s