ek kiran dikhi hai abhi ..

(hindi/devnagri version given below)

zameer ..
kuchh jaage hue..
kuchh sote hue
kuchh mrit..
kuchh andhe ..
aur kuchh aankhon ko bheenche hue..
bheed ho jis ore
bas waheen ke ho lete haen ye dil humare

sab sote thhay ..
to bhala kyon jaagte ye zameer humare..

zameeron ki lashein padin theen wahaan..
to humne bhi socha chalo hum bhi paer yaheen pasaarein..

kuchh dhritraashtra ke se thhe zameer..
to humnein bhi socha chalo pattee baandh hum tarazu nacha lein..

kai baar saha na gaya..
to chal diye bas aankhein bheench
aur sar kabhi jhukake aur kabhi pare ghumake..

ek kiran dikhi hai abhi ..
aur jaagein hain zameer kuchh shayad..
aur ainak ke peechhe se uski aankhein humein haen lalakarein..
news wale kehte haen “bhari pad rahe haen Anna Hazare”..
aur bheed bhi hai wahaan.. jo chahiye hoti hai zameer ko humare..
baki sab taraf chal ke to dekh hee liya hai..
chalo.. dekh lein uss ore bhi tashreef ke tokre sarkake..


==========================

ज़मीर ..
कुछ जागे हुए ..
कुछ सोते हुए
कुछ मृत ..
कुछ अंधे ..
और कुछ आँखों को भींचे हुए ..
भीड़ हो जिस ओर..
बस वहीं के हो लेते हैं ये दिल हमारे ..

सब सोते थे ..
तो भला क्यों जागते ये ज़मीर हमारे ..

ज़मीरों की लाशें पड़ीं थीं वहाँ ..
तो हमने भी सोचा चलो हम भी पैर यहीं पसारें ..

कुछ धृतराष्ट्र के से थे ज़मीर ..
तो हमनें भी सोचा चलो पट्टी बाँध हम भी तराजू नचा लें ..

कई बार सहा न गया ..
तो चल दिए बस आँखें भींच ..
और सर कभी झुकाके और कभी परे घुमाके ..

एक किरण दिखी है अभी ..और जागे हैं ज़मीर कुछ शायद ..
और ऐनक के पीछे से उसकी आँखें हमें हैं ललकारें ..
news वाले कहते हैं “भारी पड़ रहे हैं अन्ना हजारे “..
और भीड़ भी है वहाँ .. जो चाहिए होती है ज़मीर को हमारे ..
बाकि सब तरफ चल के तो देख ही लिया है ..
चलो .. देख लें उस ओर भी तशरीफ़ के टोकरे सरकाके ..

Published by

adityapathak

Please visit me at my homepage https://adityapathak.net/ for more info. Thanks and best wishes, Aditya

4 thoughts on “ek kiran dikhi hai abhi ..”

    1. उत्साह – वर्धन के लिए धन्यवाद 🙂 जानकार अच्छा लगा के इस पोस्ट का उल्लेख आपके बताए पेज पर भी किया गया है . शुभ कामनाएं आपके एवं आपके परिजनों के लिए. धन्यवाद !

    1. उत्साह – वर्धन के लिए धन्यवाद 🙂 शुभ कामनाएं आपके एवं आपके परिजनों के लिए !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s