ख़्वाब चुन रही है रात .. बेक़रार है .. (Tribute to Hemant Kumar)

ख़्वाब चुन रही है रात .. बेक़रार है .. तुम्हारा इंतेज़ार है ..

Happens to be Hemant Kumar ji’s birth anniversary today! A tribute of sorts 🙂